इस साईट को अपने पसंद के लिपि में देखें

Justice For Mahesh Kumar Verma

Justice For Mahesh Kumar Verma--------------------------------------------Alamgang PS Case No....

Posted by Justice For Mahesh Kumar Verma on Thursday, 27 August 2015

Follow by Email

Saturday, November 17, 2007

तेरी याद में

सोता हूँ तेरी याद में
जागता हूँ तेरी याद में
खाता हूँ तेरी याद में
पीता हूँ तेरी याद में
लिखता हूँ तेरी याद में
सब कुछ करता हूँ तेरी याद में
हर पल बीतता है तेरी याद में
सब कुछ समर्पित है तेरी याद में
मेरा दिल धड़कता है तेरी याद में
बस तेरी याद में तेरी याद में

2 comments:

परमजीत बाली said...

कविता अच्छी लगी तेरी याद में।

amit said...

aapki is kavita ne humara man moh liye. kishi ne such hi kahaa hai ki duniya me bas yaad hi rah jata hai.

aur premika ki yaad sabse tadpane wali hoti hai.

Thanks,

Amit

यहाँ आप हिन्दी में लिख सकते हैं :