इस साईट को अपने पसंद के लिपि में देखें

Justice For Mahesh Kumar Verma

Justice For Mahesh Kumar Verma--------------------------------------------Alamgang PS Case No....

Posted by Justice For Mahesh Kumar Verma on Thursday, 27 August 2015
Loading...

Follow by Email

Universal Translator

Thursday, February 11, 2010

सच्चाई का खुलासा : मतदाता सूचि में सुधार नहीं होगा

चुनाव आयोग मतदाता सूचि मतदाता पहचान पत्र बनाने में काफी पैसे खर्च कर रही हैपर मतदाता सूचि मतदाता पहचान पत्र में गलत आंकड़ा में कमी नहीं हो रही हैऔर जगह की बात तो मैं नहीं कह सकता पर बिहार में तो स्थिति यही हैयहाँ के मतदाता सूचि मतदाता पहचान पत्र मतदाता में अंकित मतदाता या संबंधी के नाम में गलती रहना आम बात हो गयी हैमतदाता पहचान पत्र में तो आप यह भी देखेंगे कि मतदाता कोई और है और फोटो किसी और का है, मतदाता पुरुष है तो फोटो किसी महिला का है, इत्यादिबिहार में मतदाता पहचानपत्र बनने की शुरुआत कई वर्ष पहले ही हुईपर प्रारंभ से अब तक मतदाता सूचि में मतदाता के नाम वगैरह में सुधार सही ढंग से नहीं हो पाया हैऔर जिस ढंग से कार्य होती है उसी ढंग से कार्य हो तो शायद कभी सुधार होगी भी नहींक्यों? क्या आपने कभी इस विषय पर सोचा कि आखिर यह सुधार क्यों नहीं हो पाती है जबकि चुनाव आयोग इसपर काफी रकम खर्च कर रही है? बिहार में रहने वाले तो इस बात को जरुर जान रहे होंगे कि मतदाता सूचि मतदाता पहचान पत्र में कितनी गलतियाँ रहती हैइस गलती के कारण एक बार चुनाव में चुनाव आयोग को समाचार पत्र में विज्ञप्ति निकालना पड़ा था कि मतदाता पहचान पत्र में हुई गलती को नजरअंदाज करके मतदाता को वोट डालने दिया जाएभले ही मतदाता उस पहचान पत्र से वोट तो डाल देते हैं पर उस पहचान पत्र में हुई गलती के कारण उसे वे अन्य जगह उपयोग नहीं कर पाते हैंकरते भी हैं तो कहीं-कहीं तो काम हो जाता है परकहीं-कहीं नाम में गलती रहने के कारण उसे अस्वीकार कर दिया जाता हैअब आप ही बताएं कि चुनाव आयोगद्वारा जारी किया गया मतदाता पहचान पत्र में गलती हो और उस गलती के कारण उसका उपयोग अन्य जगह नहीं हो, उसे अस्वीकार कर दिया जाये तो फिर उस पहचान पत्र का क्या मतलब रह गया? ऐसा भी देखने में मिला है किकिसी मतदाता सूचि में एक ही परिवार के सभी सदस्यों के नाम दो बार दर्ज है पर हरेक बार सुधार के कार्य होने के बाद भी वह उसी तरह रहता हैप्रश्न उठता है कि सुधार कार्य में इतने रकम खर्च करने के बाद भी आखिर सुधार क्यों नहीं हो पाता है?
चूँकि मतदाता सूचि मतदाता पहचान पत्र का कार्य मैं भी किया हूँ अतः मुझे उपरोक्त प्रश्न का सही जवाब मालुम हैऔर आज मैं यह खुलासा कर रहा हूँ कि किस प्रकार मतदाता सूचि मतदाता पहचान पत्र का कार्य होता है जिस कारण सुधार नहीं हो पाता है और सरकार का सभी पैसा पानी के तरह बह जाता है
चुनाव आयोग मतदाता सूचि मतदाता पहचान पत्र बनाने का कार्य ठेका पर (Contract basis पर) किसी प्राइवेटकंपनी को दे देती हैबिहार का कार्य सामान्यतः कोलकाता के किसी कंपनी को दिया जाता हैऔर फिर वह कंपनी पटना में विभिन्न स्थानों पर पटना से बाहर भी खुद या किसी अन्य को contract basis पर कार्य देकर कार्य कराती हैकार्य करने के लिए वे local (स्थानीय) ओपेरटर रखते हैंपर ओपेरटर को वे कार्य का पूरा बोझ दिए रहते हैवे ओपेरटर को टार्गेट दे देते हैं कि इतना कार्य करना हैऔर फिर इस स्थिति में ओपेरटर क्या करेगा? वे सुधार कार्य में समय बिताना छोड़कर आगे बढ़ जाते हैंऔर इस प्रकार गलती, जहाँ सुधार करनी थी वह ज्यों का त्यों बना ही रहता हैआप कहेंगे कि ओपेरटर को तो इस प्रकार नहीं करना चाहिएक्यों? आपका कहना तो ठीक हो सकता है पर मैं यहाँ यह भी बता दूँ कि ओपेरटर पर कार्य का काफी दबाव बना रहता है कि इतना कार्य करके इस टार्गेट को पूरा करना ही हैकितने जगह तो ओपेरटर को यह भी निर्देश दे दिया जाता है कि सुधार करने में समय मत बिताओ बल्कि कंप्यूटर पर सिर्फ वह डाटा खोलकर आगे बढ़ जाओ वह डाटा सुधार किया हुआ डाटा में गिनती कर लिया जायेगाऔर ओपेरटर यही करते है तथा गलती में वास्तविक सुधार नहीं होता है जबकि सिस्टम में उसे सुधार किया गया डाटा में गिन लिया जाता हैआपको मैं यह भी बता दूँ कि कोलकाता के एक कंपनी Netware Computer Services ने मुझे इसीलिए काम पर से हटा दिया था क्योंकि गलती को बिना सुधारे आगे बढ़ने के उसके बात को मेरे द्वारा नहीं मानने के कारण मैं उसका टार्गेट पूरा नहीं कर पाता था। .............
किसी भी व्यक्ति को मेरे इस सच्चाई का खुलासा करने पर आपत्ति नहीं होनी चाहिएपर सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए और यों ही पानी के तरह पैसा नहीं बहाना चाहिएबल्कि कार्य में कहाँ त्रुटी है उसे खोजकर उसमें सुधार करना चाहिए।

-- महेश कुमार वर्मा

3 comments:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

आप ने नौकरी के साथ समझौता किया एक नागरिक के कर्तव्य को निभाने के लिए यह सराहनीय है। लेकिन उस के लिए आप को नौकरी खोनी पड़ी। यह सरकार को सोचना चाहिए कि वह महत्वपूर्ण काम इस तरह से कराए कि उस में गलती न हो।

परमजीत बाली said...

आपने अपना कर्तव्य निभाया...यह सराहनीय कार्य है..लेकिन आपको इस का खामियाजा भुगतना पड़ा ...पता नही सरकार कब सही और गलत मे सही फर्क कर पाएगी...

संगीता पुरी said...

बिल्‍कुल सही कह रहे हैं आप .. झारखंड में भी मतदाता सूचि में बहुत अनियमितता देखी जा रही है .. बार बार जाकर सुधार करवाना सब के वश की बात नहीं होती .. वैसे ध्‍यान देने पर और सुधार करवाने पर यहां सुधार हो जाता है .. ऐसा मैने महसूस किया है .. वैसे हर स्‍थान की बात मैं नहीं कर सकती !!

यहाँ आप हिन्दी में लिख सकते हैं :