इस साईट को अपने पसंद के लिपि में देखें

Justice For Mahesh Kumar Verma

Justice For Mahesh Kumar Verma--------------------------------------------Alamgang PS Case No....

Posted by Justice For Mahesh Kumar Verma on Thursday, 27 August 2015
Loading...

Follow by Email

Universal Translator

Sunday, November 30, 2008

एक भिखारी ऐसा भी

देखा मैं एक ऐसा भिखारी

जो खा रहा था खैनी

सोचा

पेट भरने के लिए

कुछ नहीं है उसके पास

माँगता है कुछ लेकर आस

दया करके

कोई कुछ खाने देता है

कोई कुछ पैसे देता है

पर वह

वह भिखारी

मिले पैसे से

खैनी खाता है

सोचने पर मैं मजबूर हुआ

कि इसे पैसे देना

पुण्य है या पाप है

पुण्य है या पाप है

यह कोई कविता नहीं

नहीं यह कोई कहानी है

यह मेरी आँखों देखी हकीकत है

आँखों देखी हकीकत है

आप भी विचारें

उसे भिक्षा में पैसे देना

पुण्य है या पाप है

पुण्य है या पाप है

--------------------------------

मेरी आँखों देखी हकीकत पर आधारित

-- महेश कुमार वर्मा

7 comments:

शोभा said...

पता नहीं पुन्य है या पाप है किन्तु आपकी संवेदनाएँ सच्ची लगी।

pritima vats said...

achcha likha hai. par aishe dhokhebaj bhikhari to karib-karib har jagah mil jate hai.
mujhe tajjub tab hua tha jab mere muhalle main ghumne wala bhikhari mujhe bank main mila tha.

अल्पना वर्मा said...

पुण्य- पाप का पता नहीं लेकिन अपराध तो है. भिक्षादेना और मांगना भी --काम दिजीए दे सकते हैं तो नहीं तो भिक्षा दे कर उन्हें निठ्ठला न बनायें --

Popular India said...

मेरे ब्लॉग पर आने व अपना विचार देने के लिए सबों को धन्यवाद.

-- महेश

Popular India said...

मेरे ब्लॉग पर आने व अपना विचार देने के लिए सबों को धन्यवाद.


कभी कहीं मैं पढ़ा था कि मुंबई के हाजी अली और एक कोई नाम था वह याद नहीं आ रहा है, वहाँ का भिखारी सर्वाधिक धनी भिखारियों में है. वहां के भिखारी लाखपति में हैं. वे दिन में भीख मांगते हैं व शाम में भीख से अर्जित पैसे को सूद पर दूसरो को कर्ज देते हैं.

-- महेश

amit said...

aapke is likhavat ne hume sochne par majbur kar diya. hume aur hamare samaj ke sabhi nagrikon ko is baat par jarur jor dalna chahiye, ki hamare ghar par aye bhikhari ko bhikh me hume paisa dena chahiya ya phir pet bharne ke liye bhojan.

mere khayal se bhikharion ko hamare dvara paise dene se uska aatmvishwas aur kaa karne ki aadte ghat jati hai kyoki sadharan si baat hai agar kisi ko muft me paise aur khane ko mil jaye to wah adami kaam hi kyo krega.

ath hume achchhi tarah soch-vichar karke aur bhikharion ke sthiti ko dekhakar hi uchit nirnay lena chahiye.

amit said...

dhayawad,

यहाँ आप हिन्दी में लिख सकते हैं :